गुलाब काग़ज़ी

पसंद ना था तुम्हें

की तोड़ लाँऊ

गुलाब बाग़ से

और खोस दूँ 

तुम्हारे बालों में

तो बनाया मैंने एक

गुलाब काग़ज़ी

लिए महक तुम्हारी

 

Advertisements

2 Comments

  1. “गुलाब कागज़ी”…..बहुत सुंदर कृति आयुष जी!!
    इस कागज़ी गुलाब में आपकी रचनात्मकता की महक अवश्य है।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s